रतन टाटा जीवनी | Ratan Tata biography in Hindi

Ratan Tata biography in Hindi, Ratan Tata wikipidia in Hindi, Ratan Tata jivni, Ratan Tata Age, height, weight, family, career, marrage, Net worth 

रतन टाटा, भारतीय उद्योग जगत के एक प्रमुख नाम हैं, जिन्होंने अपने उद्यमिता और नेतृत्व के माध्यम से भारतीय व्यापार को वृद्धि दिलाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। उनका जीवन एक अद्वितीय कहानी है, जिसमें संघर्ष, सफलता, और साहस का सफर शामिल है। इस Ratan Tata biography in Hindi में, हम रतन टाटा के जीवन के महत्वपूर्ण पहलुओं को जानेंगे, जिनसे उन्होंने भारतीय उद्योगों को नए उंचाइयों तक पहुँचाया।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
Ratan Tata biography in hindi

रतन टाटा जीवनी (Ratan Tata biography in Hindi)

संक्षप्त परिचय

नाम (Name)रतन टाटा (Ratan Tata)
पूरा नाम (Full Name)रतन नवल टाटा
जन्म तारीख (Date Of Birth)28 दिसंबर 1937
जन्मदिन (Ratan Tata Birthday)28 दिसंबर
उम्र (Ratan Tata Age)85 वर्ष (2023)
जन्म स्थान (Place)सूरत, गुजरात
शिक्षा (Education )बी.एस. डिग्री संरनात्मक इंजीनियरिंग एवं वास्तुकला में उन्नत प्रबंधन कार्यक्रम
स्कूल (School)कैंपियन स्कूल और कैथेड्रल और जॉन कॉनन स्कूल, मुंबई
कॉलेज (Collage)कॉर्नेल विश्वविधालय,
हार्वर्ड विश्वविधालय
होम टाउन (Hometown)मुंबई
व्यवसाय  (Business)टाटा समूह के रिटायर्ड अध्यक्ष
अवार्ड (Award)पद्म भूषण, पद्म विभूषण
नागरिकता (Nationality)भारतीय
राशि (Zodiac Sign)तुला राशि
धर्म (Religion)पारसी
वैवाहिक स्थिति (Marital Status)अवैवाहिक
कुल संपत्ति (Ratan Tata Net Worth)8.25 लाख करोड़

रतन टाटा का प्रारम्भिक जीवन 

टाटा का जन्म 28 दिसम्बर 1937 को गुजरात के सूरत में एक पारसी परिवार में हुआ था. इनके पिता का नाम नवाल टाटा, माता का नाम सोनू टाटा . रतन टाटा का पूरा नाम रतन नवल टाटा और उपनाम आर . एन . टी है. 1948  में जब 10  साल के थे तब उनके माता पिता का तलक हो गया था फिर  उसके वाद रतन टाटा को उसकी दादी  ने पला पोश है.  रतन टाटा को  एक सौथाली माँ है जिनका नाम सिमोन टाटा . सिमोन टाटा का एक बेटा उसका नाम नोएल टाटा है.

रतन टाटा का शिक्षा

रतन टाटा की पहली पढाई कैंपियन स्कुल ,मुम्बई से की  फिर उसने  कैथेड्रल और जॉन कॉनन स्कूल, मुंबई और कोलेज / महाविद्यालय की पढाई  कॉर्नेल विश्वविद्यालय, इथाका, न्यूयॉर्क, सयुंक्त राज्य अमेरिका से की और विश्वविद्यालय हार्वर्ड बिजनेस स्कूल, बोस्टन, मैसाचुसेट्स, सयुंक्त राज्य अमेरिका पूरा किये हे. 1959 मे उन्होने bachelor of airctec  हासिल किये  रतन टाटा वास्तुकला में  बी.एस. डिग्री संरचनात्मक इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल किया , 1975 में harbert uneversity मनिजेमेंट की डिग्री प्राप्त की हे 
 

रतन टाटा करियर 

रतन टाटा का व्यापारिक करियर उनके विदेश में काम करने से शुरू हुआ था। उन्होंने लॉस एंजिल्स, कैलिफोर्निया में जोन्स एंड एमोंस कंपनी में कुछ समय के लिए काम किया था। लेकिन उनके परिवार की स्वास्थ्य समस्या के कारण, वे अमेरिका में नहीं बसे और भारत लौटने के बाद वह आईबीएम के साथ काम करने लगे। फिर, उन्हें जेआरडी टाटा ने टाटा ग्रुप के साथ काम करने का मौका दिया, जिससे उनका करियर नए मोड़ पर चला गया।

1961 में, रतन टाटा ने टाटा कंपनी के साथ काम शुरू किया। उन्होंने पहले अपने करियर की शुरुआत टाटा स्टील के शॉप फ्लोर पर की। धीरे-धीरे, वे टाटा ग्रुप की और कंपनियों के साथ जुड़ते गए। 1971 में, उन्हें नेशनल इलेक्ट्रॉनिक्स और रेडियो कंपनी (नेलको) के डायरेक्टर इंचार्ज के रूप में चुना गया।

1981 में, रतन टाटा को टाटा कंपनी के अध्यक्ष का पद दिलाया गया। उस समय, कंपनी किसी मुद्दे में गुजर रही थी और उसका बाजार में हिस्सा केवल 2% था और कंपनी का घाटा 40% था। लेकिन रतन टाटा ने धीरे-धीरे कंपनी को मुनाफा पहुंचाने में सफलता पाई। कुछ साल बाद, 1991 में, उन्हें टाटा ग्रुप के अध्यक्ष का पद दिलाया गया।

रतन टाटा के इस पद पर आने के बाद, टाटा ग्रुप की किस्मत में एक बड़ा बदलाव आया। वह बिना किसी झूठी चमक-दमक के व्यक्ति के रूप में जाने जाते हैं, और हमेशा सिर्फ काम करने, व्यवसाय में निवेश करने, और सफलता प्राप्त करने के तरीकों का परिचय देते हैं।

2012 में, रतन टाटा ने टाटा समूह के सभी कार्यकारी जिम्मेदारियों से रिटायर हो गए, लेकिन उन्हें 1 साल के लिए कंपनी के साथ काम करने का आलंब था। उनकी सफलता के बाद, साइरस मिस्त्री को उनकी जगह मिली।

रतन टाटा ने भारत के साथ-साथ कई अन्य देशों के संगठनों में भी अपनी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई हैं, और वे विभिन्न कंपनियों के बोर्ड ऑफ डायरेक्टर के सदस्य भी रहे हैं।

 

रतन टाटा की बिजनेस का शुरुआती दौड़

  • 21साल की उम्र में रतन टाटा ने टाटा ग्रुप को एक नई ऊंचाई पर लगाये थे 1960 से टाटा के शॉप फालोअर पर कम शुरू किया, 1970 तक ओह टाटा के उलग उलग कंपनी में कम किया फिर उन्होंने मैनेगेमेंट किया . 1971 में नलके कमानी की जिमेदारी दी गयी जोकी घटे में चल रहा था रतन टाटा ने 3 साल में नेल्को मार्केट का शेयर 2% से बढ़ कर 20% हो गया
  • 1977 में टाटा ग्रुप की कम्पनी रतन टाटा को शोप गया जो बहुत घटे में चल रहा था और कम्पुनी बंद हो गयी
  • 1981 में रतन टाटा को टाटा इंडस्ट्रज का  अधियाछ  बना दिया गया
  • जे आरडी टाटा ने 1991 में  अपने स्थान पर रतनटाटा को टाटा ग्रुप का चयेर्मेंन बने थे टाटा पैसिंजर और एकोमर्सियल विकाल  पहले से ही बनते था
  • 30 सितम्बर 1998 भारतीय लोगो का सपना पूरा हुआ लग्जरी कर इंडिका लंच करने पैर जो की रतन टाटा का ड्रीम प्रोजेक्ट था
  • रतन टाटा ने26 मार्च2008 को जेगवर और लैंडरोवर को खरीद कर भारत में  सेल किया
  • 28 दिसंबर2012 को टाटा ग्रुप के  कार्यकालकी जीमेदरी से सेवा से मुक्त हुए। रतन टाटा के बाद उनके स्थान पर सईरस मिश्री को दिया गया
  • मुंबई के ताज होटल में अतांकी हमले होने के बाद खुद वह पहुंचे थे, हमले से प्रभावित  क्रमचारियो और सड़क पर ठेला लगाने बलो घायल वेक्ती को खुल कर मदत किया था। रतन टाटा ने खुद सभी के घर में जाकर उनके परिवार वालों को भरोसा डिलया था।
  • रतन टाटा ने टाटा ग्रुप wrold famouse करने के बाद 2013 में सेवानिवत्त हुए।
  • इससे पहले भी रता टाटा ने  2 बार राइटरमेंट की घोसना कर चुके था  जब 2000 में व 65 साल के थे फिर इसे ही 3साल बाद समासिया हुई , टाटा कंपनी के बोर्ड ने  सेवानिवृत का उम्र 75 साल किया।

 स्वतंत्रता सेनानी लाला बहादुर शास्त्री की जीवनी 

रतन टाटा का अवोर्ड और सम्मान  

सालअवॉर्डसंगठन
2001बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन के मानद डॉक्टरओहियो स्टेट यूनिवर्सिटी
2004उरुग्वे के ओरिएंटल गणराज्य की पदकउरुग्वे की सरकार
2004प्रौद्योगिकी के मानद डॉक्टरएशियन इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी
2005साइंस की मानद डॉक्टरवारविक विश्वविद्यालय
2006साइंस की मानद डॉक्टरइंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मद्रास
2007मानद फैलोशिपअर्थशास्त्र और राजनीति विज्ञान के लंदन स्कूल
2007परोपकार की कार्नेगी पदकअंतर्राष्ट्रीय शांति के लिए कार्नेगी एंडोमेंट
2008लीडरशिप अवार्डलीडरशिप अवार्ड
2008लॉ की मानद डॉक्टरकैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2008साइंस की मानद डॉक्टरइंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मुंबई
2008मानद नागरिक पुरस्कारसिंगापुर सरकार
2008मानद फैलोशिपइंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान
2009ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट कमांडर   यूनाइटेड किंगडम
20092008 के लिए इंजीनियरिंग में लाइफ टाइम योगदान पुरस्कारइंजीनियरिंग इंडियन नेशनल एकेडमी
2009इतालवी गणराज्य की मेरिट के आदेश के ‘ग्रैंड अधिकारी’ का पुरस्कारइटली की सरकार
2010लॉ की मानद डॉक्टरकैम्ब्रिज विश्वविद्यालय
2010हैड्रियन पुरस्कारविश्व स्मारक कोष
2010शांति पुरस्कार के लिए ओस्लो व्यापारशांति प्रतिष्ठान के लिए व्यापार
2010लीडरशिप अवार्ड में लीजेंडयेल विश्वविद्यालय
2010कानून की मानद डॉक्टरपेपरडाइन विश्वविद्यालय
2010इस साल के बिजनेस लीडरएशियाई पुरस्कार
2012मानद फैलोइंजीनियरिंग की रॉयल अकादमी
2012व्यापार मानद डॉक्टरन्यू साउथ वेल्स विश्वविद्यालय
2013विदेश एसोसिएटनेशनल एकेडमी ऑफ इंजीनियरिंग
2013अर्नस्ट और वर्ष का सर्वश्रेष्ठ युवा उद्यमी – लाइफटाइम अचीवमेंटअर्न्स्ट एंड यंग
2013व्यापार व्यवहार के मानद डॉक्टरकार्नेगी मेलॉन विश्वविद्यालय
2013डॉक्टरेट की मानद उपाधिएम्स्टर्डम विश्वविद्यालय
2014व्यापार के मानद डॉक्टरसिंगापुर मैनेजमेंट यूनिवर्सिटी
2014सयाजी रत्न पुरस्कारबड़ौदा मैनेजमेंट एसोसिएशन
2014ब्रिटिश साम्राज्य के आदेश के मानद नाइट ग्रैंड क्रॉसयूनाइटेड किंगडम
2014कानून की मानद डॉक्टरन्यूयॉर्क विश्वविद्यालय, कनाडा
2015ऑटोमोटिव इंजीनियरिंग की मानद डॉक्टरक्लेमसन विश्वविद्यालय
2015मानदएचईसी पेरिस
2016कमांडर ऑफ ऑनर फ्रांस की सरकार

 डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन जीवनी

रतन टाटा की कुल संपत्ति

टाटा ग्रुप के सभी कंपनियों की बाजार मूल्य की बात करें तो एक अनुमान के अनुसार, उनकी कंपनियों की बाजार मूल्य का योग्य मूल्य 17 लाख करोड़ रुपये हो सकता है। एक रिपोर्ट के अनुसार, उनकी कुल संपत्ति 117 बिलियन डॉलर, जिसे करीब 8.25 लाख करोड़ भारतीय रुपये में होता है, हो सकता है। रतन टाटा इस धन के 65 प्रतिशत को लोगों की मदद के लिए दान करते हैं, और इसी कारण वे दुनिया के सबसे धनवान लोगों में नहीं हैं। हालांकि, लोग उन्हें दिल के बहुत अमीर मानते हैं।

रतन टाटा का स्वभाव

मैं राजनेतिक में  सामिल होना कभी पसंद नहीं करूंगा,मैहमेशा बिजनेस में की तरह याद किए जन पसंद करूंगा. जो असफल होकर सफल हुए हो और सफल रहा हो

लोहेको कई बरबाद नहीं कर  सकता, लेकिन अपना जंग  जोउसे बरबाद  करदेगा. उस  तरह  इंसानखुद को बरबाद  नहींकर सकता लेकिन मानव को  उसकी  मानसिकताउसे खत्म कर देगा ।

लाइफमें आगे बढ़ने के लिए उतार चढ़ाओ होना चाहिए, क्योंकि हॉस्पिटल में इसिजी में सीधा लाइन का मतलब हम जिंदा नहीं है।

कुछऐसा है, जो मुझे फिर से जीने का मौका दे तो से मै  अलगढंग से करेंगे लेकी में कभी पस्ट में नहीं देखूंगा की मै किया किया नहीं कर पाया ।मै हमेशा लोगों को लोगो से प्रोत्साहित करने,जिश पर प्रशन नंकिया हो उस पर प्रशन करना, किसी विचार को राखने में सर्मिंदगी ना करे, और काम को करने के लिए नए कार्य को बताने की लिए कहता हूं

जब रतन टाटा टाटा ग्रुप में सामिल हुए थे, उस समय कंपनी का कारोबार 10000 करोड़ का था, जबकि2011- 12 मेंटाटा ग्रुप का कारोबार 475.721 करोड़ रुपया को गया था

आजटाटा ग्रुप की कंपनियां  दुनियाभर में 80 देशों में मौजूद है

रतनटाटा  प्यानोबजाने और  विमानउराना

विकसितदेश  मेंकई शरी कंपनियां जिन पर टाटा का अधिकरण है जो कि इंडिया में फेमस ब्रांड है

पिछले वर्षों में रतन टाटा नेतृत्व में टाटा ग्रुप का राजस्व 379675 करोड़ रुपया थ।

 रिटायरमेंट के बाद रतन टाटा मुम्बई  कलोबास्थित बंगला में रहेंगे, यह सी फसिंग बंगला तीन मंजिला हैंऔर 13350 बर्ग फुट में लिए अच्छाहै, किया दुनिया के लिए अच्छा है

रतन टाटा के रोचक जानकारिय 

  • टाटा ग्रुप विश्व की पांचवी सबसे बड़ी कंपनी है, जिसमें टाटा चाय, 5 स्टार होटल, स्टील, कार और हवाई जहाज जैसी अनेक महत्वपूर्ण कंपनियां शामिल हैं।
  • रतन टाटा को पालतू जानवरों का साथ रखना काफी पसंद है। उन्होंने अपने मुंबई के बंगले को, जिसकी कीमत 400 करोड़ है, पालतू कुत्तों की देखभाल के लिए समर्पित किया है। उनके पास प्लेन उड़ाने का भी लाइसेंस है और वे इसे काफी शौक से उड़ाते हैं।
  • रतन टाटा का काम करने का तरीका बिल्कुल अनूठा है। इसके परिणामस्वरूप, उनके साथ काम करने वाले कर्मचारी उन्हें काफी प्रेम करते हैं। यह कहा जाता है कि टाटा में काम करना सरकारी नौकरी से कम नहीं है।
  • रतन टाटा ने टाटा ग्रुप को 21 साल तक प्रेरित किया, और इन्हीं 21 सालों में उन्होंने अपनी कंपनी को शिखर तक पहुंचाया। आज के समय में, टाटा की मूल्यवर्धना करीबन 50 गुना बढ़ गई है।
  • 2008 में मुंबई के 26/11 हमले में जितने भी घायल हुए थे, उनका इलाज टाटा ने ही कराया था। यह एक अद्वितीय और मानवीय कदम था जिससे उन्होंने समाज के प्रति अपना सभीउ निष्ठा दिखाई।
  • 26/11 हमले के समय, टाटा ग्रुप ने होटल के आसपास के दुकानदारों और विक्रेताओं की मदद की, और उन्हें मुआवजा दिया। यह उनकी सामाजिक सेवाओं का एक उदाहरण है जिससे समाज को दरियादिली से याद रखा गया है।

FAQ:

Q: रतन टाटा ने शादी क्यों हीं की?

Ans:  ऐसा कहा जाता है कि, रतन टाटा को लॉस एंजिल्स से प्यार हुआ। पर किसी कारण बस भारत आना परा और जब तक लॉस एंजेलिस पहुंचे उनकी गर्लफ्रेंड की शादी हो चुकी थी। शायद इसीलिए कहा जाता है कि उन्होंने अब तक शादी नहीं की 

Q: टाटा बिरला के पास कितना पैसा है?

Ans: वर्त्तमान समय में टाटा बिरला के पास  करीबन 7,350 करोड़ रुपये है।

Q: टाटा की स्थापना कब हुई?

Ans : 1868 में टाटा का स्थापना हुआ था।

Q : रतन टाटा दुनिया के अमीर लोगों की लिस्ट में क्यों नहीं है शामिल?

Ans: क्योंकि रतन टाटा अपना कमाई के आधा सम्पत्ति लोगों की मदद के लिए दान दे देते हैं।

Q:  रतन टाटा को भारत सरकार की और से किन पुस्कारों से किया गया था सम्मानित?

Ans:  पद्म भूषण और पद्म विभूषण सम्मानित  किया गया है।

अन्य पढ़ें:

2 thoughts on “रतन टाटा जीवनी | Ratan Tata biography in Hindi”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top