सत्यपाल मलिक की जीवनी परिचय | Satya Pal Malik Biography in Hindi

सत्यपाल मलिक की जीवनी परिचय | Satya Pal Malik Biography in Hindi, Age, height, weight, birth, family, education, career, politician

सत्यपाल मलिक भारतीय जनता पार्टी (BJP) के वरिष्ठ नेता है। जिन्होंने साल 2004 में बीजेपी पार्टी को ज्वाइन किए थे। वह बीजेपी पार्टी में रहते हुए उन्होंने कई अलग-अलग पद कार्य किए। उन्हे बिहार के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया फिर उन्हें जम्मू कश्मीर गोवा और मेघालय जैसे अन्य राज्यों के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया।

 उन्होंने कुल मिलाकर पांच राज्यों के रूप में भी कार्य किया है। और जिस समय बिहार के राज्यपाल थे उस समय साथ ही उड़ीसा राज्य के राज्यपाल के वही जिम्मेदारी निभाए थे।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now
सत्यपाल मलिक की जीवनी परिचय | Satya Pal Malik Biography in Hindi

सत्यपाल मलिक की जीवनी परिचय (Satya Pal Malik Biography in Hindi)

संक्षिप्त परिचय

नाम (Name)सत्यपाल मलिक Satya Pal Malik
जन्म (Birth)24 जुलाई 1946
जन्म स्थान (Birth Place)बागपत, उत्तर-प्रदेश
गृहनगर (Hometown)बागपत, उत्तर-प्रदेश
उम्र (Age)76 वर्ष
पेशा (Profession)राजनेता, पूर्व राज्यपाल (बिहार, जम्मू कश्मीर, गोवा, मेघालय)
कद (Height)5 फिट, 7 इंच
वजन (Weight)90 KG
राजनीति दल (Political Party)भारतीय जनता पार्टी
कॉलेज (College)चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय, मेरठ
शैक्षिक योग्यता (Educational Qualification)B. S c , LLB
वैवाहिक स्थिति
(Marital Status)
विवाहित
विवाह तिथि (Marriage Date)14 दिसंबर 1970
जाति (Caste)जाट
धर्म (Religion)हिंदू
राष्ट्रीयता Nationalityभारतीय

सत्यपाल मलिक का जन्म और प्रारंभिक जीवन

बीजेपी नेता सत्यपाल मलिक का जन्म 24 जुलाई 1946 को उत्तर प्रदेश के बागपत जिले में स्थिति एक छोटे से हिसवाड़ा नामक ग्राम में हुआ था। उनका जैन एक जाट परिवार में हुआ था। उनके पिताजी का नाम बुद्ध सिंह था जो एक किसान थे और खेती किया करते थे। और उनकी माता जी का नाम जगबीर देवी था।

जब वे डेढ़ साल के थे तो किसी कारण बस उनके पिता का देहांत हो गया था। उसके बाद उनके घर और सत्यपाल की जिम्मेदारी उनकी मां पर आ गई थी। और उनकी मां ने ही उन्हें पाल पोस कर बड़ा किया।

यह भी पढ़े: आदिवासी महिला राष्ट्रपति द्रौपदी मुर्मू की जीवनी

सत्यपाल पाल मलिक का शिक्षा

सत्यपाल ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा अपने पास के गांव की एक प्राथमिक स्कूल से शुरू किए था और फिर उन्होंने ढिकौली गांव के इंटर कॉलेज से अपने हाई स्कूल की पढ़ाई पूरी की उसके बाद उन्होंने उच्च स्तर की शिक्षा प्राप्त करने के लिए चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय मेरठ में नामांकन करवाएं और 1966 में उन्होंने विज्ञान में स्नातक की डिग्री प्राप्त की और फिर 1969 में उन्होंने कानून की डिग्री एलएलबी की पढ़ाई पूरी की।

सत्यपाल मलिक का परिवार

पिता (Father’s Name)बुध सिंह
माता (Mother’s Name)ज्ञात नहीं
भाई (Brother)ज्ञात नहीं
पत्नी (Wife)इकबाल मलिक (शिक्षक)
बेटा (Son)देव कबीर (ग्राफिक डिजाइनर)

सत्यपाल मलिक की अफेयर, गर्लफ्रेंड और पत्नी

सत्यपाल मलिक का कोई अफेयर या गर्लफ्रेंड नहीं थी उन्होंने 14 दिसंबर 1970 को इकबाल मलिक से बकायदा हिंदू धर्म के मुताबिक शादी किए हैं। लेकिन आपको बता दें कि उनकी पत्नी एक इस्लाम धर्म से संबंध रखती है। इन दो जोड़ियों को एक बेटा है जिसका नाम देव कबीर है जो एक ग्राफिक डिजाइनर है।  

सत्यपाल मलिक की शुरुआती केरियर

सत्यपाल मलिक साल 1974 में पहली चौधरी चरण सिंह के नेतृत्व वाले भारतीय क्रांति दल से विधानसभा सदस्य (MLA) का चुनाव लड़े थे और भागवत क्षेत्र से चुनाव जीते थे। उसके बाद किसानों से जुड़े मुद्दे को उठाने पर जोर दिया जिससे क्षेत्रीय नेता के रूप में पहचान बनाने में सफल रहे। उसके बाद उन्हें उत्तर प्रदेश को प्रतिनिधित्व करते हुए राज्यसभा के सदस्य के रूप में लगातार दो बार नियुक्त किया गया। 1980 से 1986 तक और फिर 1986 से 1992 तक।

सत्यपाल की को 1989 में जनता दल दल के उम्मीदवार के रूप में पहली बार अलीगढ़ लोकसभा चुनाव के लिए चुना गया था। इसके बाद वे एक क्षेत्रीय नेता से राष्ट्र नेता बन गए। इसके बाद उन्होंने एक बार और 1996 में अलीगढ़ लोकसभा चुनाव लड़े समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के रूप में पैड इस बार उन्हें बहुत बड़ी हार का सामना करना पड़ा था

सत्यपाल मलिक 1984 में कांग्रेस पार्टी से जुड़ गए और कांग्रेस टिकट से राज्यसभा के सदस्य के रूप में चयनित किया गया। लेकिन उस समय कांग्रेस के प्रधानमंत्री राजीव गांधी के खिलाफ बोफोर्स घोटाला का आरोप लगाया गया था। इस कारण उन्होंने कांग्रेस को इस्तीफा दे दिया और 1989 में जनता दल पार्टी से जुड़ गए। उसके बाद 1989 में उन्होंने आम चुनाव लड़ा और जीत हासिल किया इसके फलस्वरूप अलीगढ़ के सांसद सदस्य बने और नई सरकार में मंत्री के रूप में नियुक्त किया गया। उसके बाद 1990 में सत्यपाल मलिक ने केंद्रीय पर्यटन और संसदीय मामलों के राज्यमंत्री के रूप में कार्य किए।

यह भी पढ़े:फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह की जीवनी परिचय

इसके बाद उन्होंने साल 2004 को अटल बिहारी वाजपेई के कार्यकाल ने भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए और किसी पार्टी के मदद से लोकसभा चुनाव लड़ी पर दुर्भाग्यवश यह चुनाव हार गए। क्योंकि इसके अपोजिशन पार्टी पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के चौधरी अजीत सिंह से हुआ था। लेकिन इस बार फिर भी उन्होंने अपना दल नहीं बदले।

उसके बाद 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान सत्यपाल मलिक को भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपअध्यक्ष के रूप में चयनित किया गया था। उस समय यह हम उनकी एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी बन चुकी थी क्योंकि उस समय भारतीय जनता पार्टी देश की एक प्रमुख पार्टी बन चुकी थी। इससे पहले उन्हें भारतीय जनता पार्टी की ओर से राजस्थान में विधानसभा चुनाव की देख रेख की जिम्मेदारी और भाजपा किसान मोर्चा का भार संभालने का जिम्मेदारी सौंपा गया था।

नेपाल मनी को 30 सितंबर 2017 में बिहार के 33वें राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया था। जो उनके लिए एक महत्वपूर्ण जिम्मेदारी थी और 21 अगस्त 2018 तक बिहार के राज्यपाल के पदभार को संभाले।

शेर सत्यपाल मलिक को 23 अगस्त 2018 को उस समय के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद द्वारा जम्मू कश्मीर के राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया था। राजपाल कार्यकाल के दौरान 5 अगस्त 2019 को अनुच्छेद 370 को तुम करने में उनकी एक महत्वपूर्ण संवाद संविधानिक भूमिका रहा था जिसमें जम्मू को विशेष रूप से दर्जा प्राप्त हुआ था।

उसके बाद उन्हें 3 नवंबर 2019 को गोवा के 98 राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया था। और वहां उन्होंने 18 अगस्त 2020 तक राज्यपाल के रूप में कार्य किए उसके बाद उन्हें मेघालय के 19 में राज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया शेर 4 अक्टूबर 2022 तक पद पर कार्य करते रहे थे।

सत्यपाल मलिक कुछ विवादे

सीबीआई ने पूछताछ के लिए सत्यपाल मलिक को बुलाया था, उन्होंने पिछले हफ्ते एक इंटरव्यू में फुल पुलवामा हमले को लेकर जम्मू कश्मीर की सियासत पर कुछ बातें बयां किए थे।

सत्यपाल मलिक राजनेतिक केरियर लिस्ट

वर्षपद
1974बागपत से विधायक बने
1980लोकदल से राज्यसभा का चुनाव जीता
1984कांग्रेस पार्टी से राज्यसभा सदस्य बने
1989जनता दल टिकट से अलीगढ़ से लोकसभा सदस्य चुने गए
1996समाजवादी पार्टी के टिकट से अलीगढ़ से लोकसभा चुनाव हारे
2004भारतीय जनता पार्टी में शामिल हुए
2012भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बने
30 सितंबर 2017 – 21 अगस्त 2018बिहार के राज्यपाल बने
23 अगस्त 2018 – 30 अक्टूबर 2019जम्मू कश्मीर के राज्यपाल बने
3 नवंबर 2019 – 18 अगस्त 2020गोवा के राज्यपाल बने
18 अगस्त 2020 – 3 अक्टूबर 2022मेघालय के राज्यपाल बने

सत्यपाल मलिक की रोचक जानकारियां

सत्यपाल मलिक ने अपने जीवन का पहला चुनाव 1968 में लड़े मेरठ कॉलेज के छात्र प्रेसिडेंट के रूप में चुने गए थे।

अन्य पढ़ें:

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top