UPSC Success  Story: 10वीं और 12वीं में फेल, फिर भी IAS Officer बनी अंजू शर्मा

UPSC Success  Story:अगर जीवन में आप सफल होना चाहते है तो आप से कोई गलती हो तो उससे सीख लेना चाहिए ताकि लाइफ में आगे की सफर आसान हो, लेकिन B में एक ही गलती को बार-बार दोहराने नहीं चाहिए। जीवन में हर कोई सफल होना चाहता है लेकिन कोई यह नहीं चाहता कि असफल हो जाए। लेकिन जीवन में वही व्यक्ति सफल होता है जो असफलता यानी गलती कर करके सीखता है, वही सफलता की चीज सीढ़ी चढ़ पता है। दरअसल, यह एक ऐसे ही IAS अधिकारी की कहानी है जिन्होंने अपने जीवन में काफी गलत की है, और उसे गलती को सुधार कर एक सफर आईएएस अधिकारी बनी है

IPS मनोज कुमार शर्मा की कहानी तो सभी लोग जनता है की वे 12वीं फेल होने के बावजूद भी उन्होंने सिविल सर्विसेस UPSC Exam को पास किए थे। और एक IPS अधिकारी बनने थे। क्या आप एक ऐसे IAS ऑफिसर को जानते हैं,  जिन्होंने 10वीं और 12वीं दोनो क्लास के फेल हो। तो आई हम IAS anju Sharma Success Story की सफलता के बड़ी जने है। 

10वीं और 12वीं हो गई फेल 

वन इंडिया रिपोर्ट के मुताबिक,  IAS अंजू शर्मा का लाइफ स्टोरी एक स्टूडेंट के लिए प्रेरणादायक है। अंजू जब दसवीं की पढ़ाई कर रही थी तो दसवीं के प्री बोर्ड और 12वीं के इकोनॉमिक्स के पेपर में फेल हो गई थी। फेल होने पर लोग अक्सर लोग बोलते थे कि भविष्य में अब कुछ नहीं कर पाएगी। इसी कारण से अंजू उदास रहने लगी थी। 10वीं और 12वीं की फेल ईयर के बाद उन्होंने पढ़ाई को काफी गंभीरता पूर्वक लिया।

आगे की पढ़ाई के लिए जयपुर चली गई और वहां उन्होंने बीएससी और एमबीए की पढ़ाई पूरी की। और उसी कॉलेज में गोल्ड मेडल से सम्मानित भी किया गया था।

UPSC exam preparation

उसके बाद अंजू शर्मा ने सिविल सर्विसेज परीक्षा UPSC Exam की तैयारी करने लगी। इस एग्जाम के प्रिपरेशन के लिए उन्होंने एक रणनीति बनाई। उन्हें पता था कि इस एग्जाम के अंतिम समय की पढ़ाई पर निर्भर नहीं रहना है। इसलिए उन्होंने समय से पहले ही सिलेबस को खत्म कर दी, उसके बाद वह यूपीएससी एक्जाम को क्लियर कर एक IAS अधिकारी बनी। अपने परिवार का नाम रोशन किया 

प्रथम प्रयास में  UPSC क्लियर किया

यूपीएससी परीक्षा क्लियर करने के बाद अंजू शर्मा को पहली बार 1991 को राजकोट में असिस्टेंट कलेक्टर के तौर पर नियुक्त किया गया था। 

उसके बाद बडौदा गांधीनगर में जिला कलेक्टर के पद पर कार्य कर रही है। कई और संस्थानों पर भी काम कर रही है वर्तमान समय में गांधीनगर सरकारी शिक्षा विभाग सचिवालय में प्रिंसिपल सेक्रेटरी के पद पर कार्य कर रही है

दोस्तों इस कहानी से यह पता चलता है कि अगर आप ईमानदारी से मेहनत करते हैं तो मेहनत एक दिन रंग जरूर लाता है। अगर कोई व्यक्ति जीवन में काफी असफलता का सामना कर रहा है तो इसका मतलब यह बिल्कुल नहीं है कि वह उसके काबिल नही है। एक ने एक दिन उन्हें भी सफलता जरूर मिलेगी।

Read this also:UPSC Success Story: अयोध्या की 21 वर्षीय लड़की ने पहले प्रयास में ऑल इंडिया 13वीं रैंक हासिल की, IAS के बजाय बनी IFS अनोखा चयन!

Read this Also:IPS success story: NASA में नौकरी छोड़ कर की UPSC की तैयारी कई असफलता के बावजूद IPS Officer बनकर पूरा किया सपना 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top