UPSC Success Story: अयोध्या की 21 वर्षीय लड़की ने पहले प्रयास में ऑल इंडिया 13वीं रैंक हासिल की, IAS के बजाय बनी IFS अनोखा चयन!

UPSC Success Story: UPSC सिविल सेवा परीक्षा भारत के सबसे कठिन एग्जाम में से एक है। इस एग्जाम में हर साल 10 लाख से अधिक फॉर्म भरे जाते हैं और उनमें से कुछ ही लोग होते हैं जो एक सफल IAS , IPS और IFS अधिकारी बन पाते हैं। उसमें भी ऐसे बहुत कम लोग होते हैं जो प्रथम प्रयास में पास कर जाते हैं। इस एग्जाम में पास होने वाले उम्मीद करो की सबसे पहली पसंद  IAS होता है, लेकिन कुछ लिमिट सीटे होने के कारण केवल कुछ ही उम्मीदवार होते हैं जो IAS Officer बन पाते है।

अयोध्या की एक ऐसी लड़की जिन्होंने 21 साल उम्र में वो भी प्रथम प्रयास में हीं UPSC Exam को पास किया, ऑल इंडिया 13वीं रैंक हासिल किया। आपको बता दे वो चाहती तो एक IAS या IPS अधिकारी बन सकती थी पर उन्होंने IFS पद का चयन कियाऔर एक IFS अधिकारी बनी। आए जानते है IFS Vidushi Singh success story की किस तरह से उन्होंने एग्जाम का प्रिपरेशन किया। 

UPSC Success Story

विदुषी सिंह ने मात्र 21 साल की उम्र में बिना किसी कोचिंग के सेल्फ स्टडी कर साल 2022 में यूपीएससी सीएसई का एग्जाम पास किया और ऑल इंडिया 13वें रैंक हासिल की। विदुषी करंट इतना अच्छा था कि वह चाहती तो इस पद का भी चयन कर सकती थी लेकिन उन्होंने इंडियन फॉरेन सर्विस (IFS) का चयन किया। वह मुथम्मा को अपना आदर्श मानती है जिन्होंने 1949 में सिविल सेवा मैं आने वाली प्रथम भारतीय महिला थी और उन्होंने भी इंडियन फॉरेन सर्विस (IFS) का चयन की थी  

Birth and family 

विदुषी सिंह का जन्म उत्तर प्रदेश के राम जन्मभूमि अयोध्या में हुआ था। उनके पिताजी यूपीपीसी में एक इंजीनियर है और उनकी मां एक स्कूल टीचर है। इसलिए उनके घर में शिक्षा का काफी महत्व है। बचपन से ही उन्हें पढ़ाई पर ज्यादा फोकस कराया गया।

Education 

विदुषी ने अपनी प्रारंभिक शिक्षा फैजाबाद, उत्तर प्रदेश से किया। जो वर्तमान समय में अयोध्या के नाम से प्रसिद्ध है। उन्होंने 12वीं की परीक्षा में जब अकादमी से 98.2% अंकों के साथ टॉप की थी। उसके बाद उन्होंने उसके बाद उन्होंने दिल्ली यूनिवर्सिटी के श्री राम कॉलेज आफ कमर्स (SRCC)  से इकोनॉमिक्स से BA ऑनर्स में डिग्री हासिल की। 

UPSC preparation 

विदुषी सिंह  कॉलेज के थर्ड ईयर से ही UPSC Exam की तैयारी करना शुरू कर दी थी। और इस एग्जाम की तैयारी करने के लिए उन्होंने किसी कोचिंग या संस्थान के सहायता नहीं लिया और खुद से सेल्फ स्टडी की। उन्होंने थर्ड ईयर में ही NCERT और अन्य बेसिक किताबों को पढ़ा जो उनके बेस को मजबूत किया। उन्होंने केवल टेस्ट सीरीज और मौत के लिए एनरोलमेंट की थी। और वह अपने ऑप्शनल सब्जेक्ट इकोनॉमिक्स के लिए 4 महीने एक शिक्षक से मदद ली। 

कॉलेज खत्म करने के बाद उन्होंने पूरा फोकस यूपीएससी एक्जाम पर की। और खुद उन्होंने अपने आप पर विश्लेषण किया कि आखिर में कहां गलती कर रही हूं और इसे कैसे सुधारे। और पेट लगातार टेस्ट सीरीज करती रही और अपनी गलती को धीरे-धीरे सुधरती गई। फाइनली जब 2022 में यूपीएससी की एग्जाम क्वालीफाई कर गई, तो ऑल इंडिया उनका रैंक 13 था। और वह चाहती कि आईएएस या आईपीएस बने तो वह बन सकती थी लेकिन उन्होंने आईएफएससी का चेक किया। 

इंटरव्यू में पूछा गया अयोध्या पर प्रश्न

विदुषी ने बताया कि उनसे उनके बीएफ और उनके होमटाउन अयोध्या से जुड़ी कुछ प्रश्न भी पूछे गए थे। विदुषी का जन्म जोधपुर में हुआ था इसलिए उनसे वहां के प्रसिद्ध सेलिब्रिटी कपल का नाम पूछा गया था जिन्होंने उम्मेद भवन में शादी की थी।

Inspiration

विदुषी सिंह को एक सिविल सर्वेंट बनने की प्रेरणा उनके दादा और दादी से मिली है। उनके दादा राज चाहते थे कि हमारी पोती एक सिविल सर्वेंट ऑफिसर बने। अपने दादाजी के सपने को पूरे करने के लिए उन्होंने यूपीएससी की एग्जाम दी और एक IFS अधिकारी बनी 

Read this also: IPS success story: NASA में नौकरी छोड़ कर की UPSC की तैयारी कई असफलता के बावजूद IPS Officer बनकर पूरा किया सपना 

Read this Also:UPSC Exam: जानिए एक IAS officer की सलाह UPSC की तैयारी के लिए कोचिंग जरूरी है या नहीं है

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top