UPSC Exam: जानिए एक IAS officer की सलाह UPSC की तैयारी के लिए कोचिंग जरूरी है या नहीं है

UPSC Exam:IAS officer सिद्धार्थ शुक्ला ने UPSC  Exam देने वाले स्टूडेंट को कोचिंग और  संस्थानों के जाल में फंसने से बचने से रोकने की चेतावनी दी है। आए जानते है की उन्होंने किस तरह से UPSC Exam पास किए। और किया UPSC उम्मीदवार को  कोचिंग संस्थानों से बचने की चेतावनी दिए है। 

संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) भारत सबसे कठिन एग्जाम में से एक है। हर हर साल इसमें लगभग 10 लाख से अधिक उम्मीदवार UPSC का फॉर्म भरते हैं। और उसमें से कुछ हीं लोग होते हैं जिनका फाइनल लिस्ट में सिलेक्शन होता हैं। इसलिए UPSC Exam को पास करना आसान नहीं है। 

इसलिए UPSC  Exam को पास करने के लिए कुछ कोचिंग संस्थान का सहारा लेते हैं तो उनमें से कुछ लोग सेल्फ स्टडी करते हैं। जिन्होंने सिर्फ एसटीडी की मदद से यूपीएससी एक्जाम को क्वालीफाई किया आईए जानते हैं उनसे यूपीएससी परीक्षा पास करने के लिए कोचिंग संस्थान की जरूर है या नहीं। इसमें एक IAS Officer Siddharth Shukla का क्या मत है। 

हम बात कर रहे हैं, आईएएस सिद्धार्थ शुक्ला के बारे में जो आजमगढ़ के रहने वाले हैं। और उनकी एजुकेशन की बात करें तो उन्होंने अपनी स्कूल की पढ़ाई सेंट जेवियर्स स्कूल रोहिणी, दिल्ली से पूरी की। उसके बाद घूमने दिल्ली यूनिवर्सिटी के खालसा कॉलेज से हिस्ट्री की पढ़ाई पूरी। उनके पिता का सपना था कि मेरा बेटा एक आईएएस अधिकारी बने। फिर क्या था अब तो पिता की सपना को पूरा करने के लिए UPSC Exam की तैयारी करने लगे। 

एक बात तो हम सभी जानते हैं की यूपीएससी की तैयारी करना इतना आसान नहीं है। फिर भी पिता की सपना पूरा करने के लिए यूपीएससी एग्जाम की तैयारी करने लगे। आपको बता दे कि उन्होंने तैयारी के लिए किसी कोचिंग संस्थान की मदद नहीं ली है, उन्होंने सिर्फ स्टडी करके इस एग्जाम को क्वालीफाई किए हैं। हाल ही में उन्होंने सोशल मीडिया प्लेटफार्म एक्स (ट्विटर) के माध्यम से एक पोस्ट शेयर करते हुए यूपीएससी कोचिंग के नाम पर लूटने वाले संस्था बताए थे।

उन्होंने लिखा था “UPSC की तैयारी करने वाले सभी अभ्यर्थियों को मेरा संदेश है कि UPSC के लिए कोचिंग करना जरूरी नहीं है गांव की संपत्ति को बेचने की जरूरत नहीं है मध्यमवर्गीय परिवार के विद्यार्थी के लिए बहुत बड़ी रकम होती है” 

सिद्धार्थ शुक्ला ने अपनी ट्वीट के माध्यम से अभ्यर्थियों को संस्थाओं के जाल में फंसने से रोकने के लिए आगह किया और उन्होंने सलाह दी की कोचिंग और संस्थानों पर लाखों रुपया खर्च करना बंद करें और इसके बजाय जरूरी किताब खरीदें और उन्हें पढ़े। 

UPSC Exam preparation

IAS सिद्धार्थ शुक्ला ने इस परीक्षा में कई बार असफलता का सामना करना पड़ा है। पहले अटेम्प्ट में यूपीएससी एग्जाम दिए तो प्रीलिम्स एग्जाम भी क्वालीफाई नहीं कर पाए थे। दूसरी अटेम्प्ट में उन्होंने प्रीलिम्स और मेंस दोनों क्वालीफाई करके पर इंटरव्यू क्वालीफाई नहीं कर पाए। इसी तरह तीसरी बार भी यूपीएससी एग्जाम में असफल रहे।

लगातार असफल होने के बावजूद भी उन्होंने फिर यूपीएससी एग्जाम में भाग लिए और अंततः सी डी एस और एस एस बी परीक्षा पास करने के बाद 2020 में 27वीं रैंक के सीएपीएफ पास किए। एक आईएएस अधिकारी बने से पहले वे केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएफ)में सहायक कमांडेंट के रूप में नियुक्त किया गया। 

फिर भी उन्होंने हार नहीं मानी और अपनी मेहनत और विश्वास के साथ लग रहे। यूपीएससी एग्जाम के चौथे प्रयास में उन्होंने इस एग्जाम को क्वालीफाई कर लिए। ऑल इंडिया रैंक 18 के साथ एक आईएएस अधिकारी बने। 

Education Ministry order

सरकार ने किया एक बड़ा ऐलान 16 साल से काम के छात्र नहीं जा सकते कोचिंग

शिक्षा मंत्रालय ने यह आदेश दिया है की कोचिंग सेंटर पर 16 वर्ष से कम उम्र के छात्र का नामांकन नहीं किया जा सकता है। वहीं शिक्षा मंत्रालय ने यह आदेश भी दिया है की जो इस आदेश का पालन नहीं करेगा उसे एक लाख का जुर्माना वसूला जाएगा

Read this also: IPS Anshika Verma success story: इस खूबसूरत IPS महिला के सामने बॉलीवुड एक्ट्रेस भी फेल है, बिल्कुल मॉडल की तरह दिखती है

Read this also:IAS Priyanka Goyal Success Story: UPSC में 5 बार फेल हो जाने के बाद भी बनी IAS Officer 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top