IAS Success Story: लंदन में लाखो की नौकरी छोड़ बनी IAS अधिकारी दिव्या मित्तल  

IAS Success Story: दिव्या मित्तल जिन्होंने लंदन की जॉब को छोड़ कर एक IAS अधिकारी बनी आपको बता दे की उत्तर प्रदेश कैडर के बैच 2013 के आईएएस अधिकारी हैं, मित्तल वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मिर्जापुर जिले से ट्रांसफर कर दिया गया हैं। इससे पहले, वह संत कबीर नगर जिले की डीएम भी रह चुकी हैं, और उन्होंने अपने पहले कार्यकाल में कुलपति के रूप में बरेली विकास प्राधिकरण में कार्य किया था। और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रस्तुति के लिए भी उन्हें चुना गया था।

आईएएस दिव्या मित्तल की पहचान एक सक्त IAS अधिकारी के रूप में है. जनता की शिकायत पर वह अधिकारियों से सीधे सवाल जवाब करने के लिए जानी जाती हैं। उनका इस अंदाज लोगों काफी पसंद करते है और जिससे पब्लिक को कनेक्ट करती हैं। हालांकि  महिलाओं और बच्चों के सामने उनका अंदाज बिल्कुल बदल जाता है। वह उनके बीच एक नरमदिल इंसान के जैसे बात करती है

आज के इस लेख में हम आपको 2013 बैच की इस आईएएस ऑफिसर के बारे में विस्तार से जानकारी देंगे। आइए, हम उनके बारे में और अधिक जानते हैं।  

Birth and early life

दिव्या मित्तल का जन्म 23 नवंबर 1983 को बुधवार को दिल्ली के एक हिंदू परिवार में  हुआ था। लेकिन उनका परिवार मुख्य रूप से हरियाणा के रेवाड़ी की रहने  है। उनका बचपन उनके परिवार के साथ  दिल्ली की गलियों में ही बीता है। उनकी माताजी का नाम सरोज मित्तल है। जो एक गृहणी है।

 Education qualification 

दिव्या मित्तल ने अपनी प्राइमरी स्कूल और कॉलेज की शिक्षा को दिल्ली से ही पूरी की और वर्ष 2001 में बीटेक करने के लिए उन्होंने IIT  दिल्ली में दाखिला लिया, जहां से उन्होंने अपनी B.Tec की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने अपनी शिक्षा को और आगे बढ़ाया और वर्ष 2005 में IIM बैंगलोर से MBA की पढ़ाई पूरी, जहां से उन्होंने अपनी एमबीए की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने वर्ष 2019 में एमआईटीएक्स कोर्सेज में माइक्रोमास्टर, डाटा, इकोनॉमिक्स, और डेवलपमेंट इकोनॉमिक्स में अपनी शिक्षा को और भी विस्तारित किया। 

दिव्या मित्तल का विवाह उत्तर प्रदेश कैडर के 2011 बैच के आईएएस अधिकारी गगनदीप सिंह ढिल्लों के साथ हो चुका है। गगनदीप और दिव्या मित्तल के दो बेटियां हैं, जिनके नाम आदविका और अवान्या ढिल्लों है। 

corporate job

वर्ष 2007 में एमबीए की शिक्षा पूरी करने के बाद, दिव्या ने इंग्लैंड के लंदन में एक वित्तीय सेवा कंपनी, जेपी मॉर्गन, में सहयोगी के रूप में काम करना शुरू किया। उन्होंने करीब 1 साल तक कंपनी में काम करते हुए जटिल डेरिवेटिव्स के अरब डॉलर के पोर्टफोलियो को प्रतिबंधित और हेज किया।

Indian Administrative Service (IAS)

दिव्या मित्तल ने वर्ष 2013 में सिविल सेवा की परीक्षा को पास करके उत्तर प्रदेश कैडर की IAS अधिकारी बनी। उन्होंने लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी, मसूरी से अपना प्रशिक्षण पूरा किया और सिधौली, सीतापुर में उप विभागीय मजिस्ट्रेट के रूप में सेवा देना शुरू किया। 

उन्होंने सितंबर 2014 से जून 2015 तक अपनी सेवाएं वहां दी। इसके बाद, वह 31 अगस्त 2015 को उन्हें 3 महीने की अवधि के लिए केंद्रीय प्रतिनियुक्ति पर चली गई, जहां उन्होंने नीति आयोग, भारत सरकार, नई दिल्ली में सहायक सचिव के रूप में कार्य किया। इसके बाद, दिसंबर 2015 से मई 2017 तक मेरठ में उन्होंने उप विभागीय मजिस्ट्रेट के रूप में सेवा दी। 

इसके बाद, उन्होंने लगभग 1 वर्ष 9 महीने तक गोंडा क्षेत्र के मुख्य विकास अधिकारी के रूप में कार्य किया और फिर उन्होंने उत्तर प्रदेश के कानपुर में औद्योगिक विकास प्राधिकरण के संयुक्त प्रबंध निदेशक के रूप में कार्य किया। इसके पश्चात, 20 फरवरी 2019 को उन्हें बरेली विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष के रूप में नियुक्त किया गया। 

इसके बाद, लगभग 2 वर्षों तक संत कबीर नगर खलीलाबाद, उत्तर प्रदेश, में मजिस्ट्रेट मार्ग कलेक्टर के रूप में कार्य किया, फिर उन्हें मिर्जापुर के जिला मजिस्ट्रेट और कलेक्टर के रूप में नियुक्त किया गया।

Achievements and Awards

वर्ष 2014 में उन्हें लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी, मसूरी में शिक्षक अनुपस्थिति की समस्या के समाधान के लिए नवाचार सम्मेलन में प्रथम पुरस्कार प्रदान किया गया।

साल 2014 में लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी में भूजल की कमी की समस्या के समाधान के लिए नवाचार सम्मेलन में उन्हें प्रथम पुरस्कार प्राप्त किया गया था।

इसके बाद वर्ष 2015 में लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासनिक अकादमी मसूरी में एफसी चरण -1 और चरण -2 में प्राप्त अंकों के आधार पर उत्कृष्ट आईएएस अधिकारी प्रशिक्षु के लिए उन्हें अशोक बंबावाले मेमोरियल अवार्ड प्राप्त हुआ।

Read this also: IAS Divya Tanwar Success Story: 21 वर्ष के उम्र में IPS Officer, 2nd अटेम्प्ट में बनी IAS Officer हरियाणा की बेटी जाने उनकी सफलता की कहानी 

Read this also:IAS kumar Anurag Success Story: बिहार के इस ऑफिसर की कहानी भी 12th fail मनोज शर्मा के जैसा है। 

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top