IAS Divya Tanwar Success Story: 21 वर्ष के उम्र में IPS Officer, 2nd अटेम्प्ट में बनी IAS Officer हरियाणा की बेटी जाने उनकी सफलता की कहानी 

IAS Divya Tanwar Success Story: संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) द्वारा आयोजित सिविल सेवा परीक्षा हर साल लाखों युवाओं की तैयारी का केंद्र बन जाती है। यह परीक्षा सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक मानी जाती है और इसे पास करना कई युवाओं का सपना होता है। जब यह सपना सच में पूरा होता है, तो उनकी कड़ी मेहनत और संघर्ष की कहानी दूसरों के लिए प्रेरणा स्रोत बन जाती है। कुछ लोगों की कहानियाँ इतनी प्रेरणास्त्रोत होती हैं  जो व्यक्ति अपनी मेहनत पर भाग्य से ज्यादा विश्वास करता है, वह एक न एक दिन तारों की तरह जरूर चमकता ही है।

दिव्या तंवर ने अपने परिश्रम और प्रतिबद्धता से दिखाया कि छोटी सी आवश्यकताओं के बावजूद भी सपनों की पुर्ती संभव है। उनका यह प्रेरणादायक कदम आने वाली पीढ़ियों के लिए एक उत्तराधिकारी संकल्प है कि वे भी अपने लक्ष्यों को पूरा करने के लिए हाथ में मेहनत और संघर्ष का सामर्थ्य रखते है।

 Birth and Early life 

दिव्या तंवर हरियाणा के महेंद्रगढ़ शहर की निवासी हैं। उन्होंने अपनी प्रारंभिक शिक्षा जवाहर नवोदय विद्यालय से प्राप्त की और उसके बाद सरकारी पीजी कॉलेज, महेंद्रगढ़ से बीएससी में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। इसके बाद, उन्होंने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी में कठिनाइयों का सामना किया और अपने मेहनती प्रयासों के बल पर पहले ही प्रयास में यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा 2021 में 438वीं रैंक हासिल की। उनकी मेहनत और संघर्ष ने उन्हें आईपीएस अधिकारी बनने का मौका दिलाया और उन्हें मणिपुर कैडर में अलॉट किया गया। इसके बाद भी, उन्होंने अपनी पढ़ाई को निरंतर जारी रखते हुए, यूपीएससी सीएसई 2022 में एक बार फिर से सफलता हासिल करके 105वीं रैंक प्राप्त की है।

Divya Tanwar  Education Qualification

दिव्या तंवर ने अपनी शिक्षा की यात्रा की शुरुआत महेंद्रगढ़ के निम्बी जिले के मनु हाई विद्यालय से की। उन्होंने यहाँ से अपनी पढ़ाई की शुरुआत की ताकि उनकी माँ पर पढ़ाई का बोझ न पड़े। उन्होंने जवाहर नवोदय विद्यालय का प्रवेश प्राप्त कर उसके अंतर्गत अध्ययन किया। इसके बाद, उन्होंने सफलतापूर्वक 12वीं कक्षा की परीक्षा उत्तीर्ण की और इसके बाद गवर्नमेंट पीजी कॉलेज में प्रवेश प्राप्त किया। यहाँ से उन्होंने बीएससी (पीसीएम) में स्नातक की डिग्री प्राप्त की। पूरी विस्तार रूप से दिव्या तंवर जीवन के बारे में जानने के लिए लिंक क्लिक करें IAS Divya Tanwar

UPSC 1st attempt  

एक अद्वितीय कहानी जो हमें सिखाती है कि संघर्ष, मेहनत और समर्पण से किसी भी लक्ष्य को प्राप्त करना संभव हो सकता है। इस कहानी की मुख्य किरण दिव्या तंवर है, जिन्होंने अपने जीवन में कड़ी मेहनत और निष्ठा के साथ यूपीएससी सिविल सर्विस परीक्षा 2021 में पहले प्रयास में ही 438 रैंक हासिल कर लिया।

दिव्या, जो केवल 23 साल की उम्र में इस महत्वपूर्ण परीक्षा के लिए उत्साहित थी, ने हमें यह सिखाया कि संघर्षों के बावजूद भी यदि हमारी मेहनत सही दिशा में हो, तो हम किसी भी समस्या का समाधान पा सकते हैं। उन्होंने सिद्ध किया कि सफलता पाने के लिए अधिकतम संसाधनों की आवश्यकता नहीं होती, बल्कि निरंतर मेहनत, उत्साह और प्रतिबद्धता की आवश्यकता होती है।

UPSC 2nd attempt 

एक बार फिर से दिव्या ने अपने मेहनती प्रयासों का परिणाम दिखाया और उन्होंने दूसरे प्रयास में सफलता हासिल की। उन्होंने यूपीएससी सीएसई 2022 में 105 रैंक हासिल की है, जिससे उनका सपना जो आईएएस अफसर बनने का था, पूरा हुआ। दिव्या ने अपनी मेहनत और समर्पण से एक नई उचाइयों को छूने का साबित किया है। 

इस महत्वपूर्ण पहलु के अलावा, दिव्या ने इस सफलता का सम्मान और श्रेय अपनी माँ को समर्पित किया। उनकी माँ ने कभी भी दिव्या को घरेलू कामों में दबाव नहीं डाला बल्कि उन्हें मेहनत और समर्पण की महत्वपूर्णता सिखाई। अपनी माँ की मजदूरी और संघर्ष के कारण आज दिव्या ने वो मुकाम हासिल किया है जिसके लिए वो सपने देख रही थीं। उनके इस उपलब्धि पर उनके गाँव में गर्व की लहर उठी है और उनकी माँ की संघर्षपूर्ण कहानी ने सभी को प्रेरित किया है।

UPSC प्रिप्रेशन के महत्वपूर्ण किताबे 

  • – NCERT (6 से 12वीं तक)
  • – 10 साल के आईएएस प्रीलिम्स के पेपर
  • – आधुनिक भारत का इतिहास ( स्पेक्ट्रम)
  • – भारत की राजव्यवस्था (लक्ष्मीकान्थ)
  • – भारतीय अर्थव्यवस्था (रमेश सिंह)
  • – भूगोल (जीसी लेओंग)
  • – भारत का प्राचीन अतीत (राम शरण शर्मा)
  • – मध्यकालीन भारत (बिपिन चंद्र)
  • – CSAT (अरिहंत प्रकाशन)
  • – निबंध – 151 निबंध
  • – आधुनिक भारत का संक्षिप्त इतिहास
  • – गांधी जी के बाद का भारत
  • – भारत स्वतंत्रता के लिए संघर्ष
  • – भारत में सामाजिक समस्याएं

Read this aso: IAS kumar Anurag Success Story: बिहार के इस ऑफिसर की कहानी भी 12th fail मनोज शर्मा के जैसा है। 

Read this aso:IAS Success Story: ऑल इंडिया टॉपर बनी कर्नाटक की बेटी रचा इतिहास जाने सक्सेस स्टोरी

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top